Bharosa Shayari

Bharosa कहने में तो बहुत आसान है लेकिन करना उतना ही मुश्किल है। इस भरोसे पर ही हमारा पूरा जीवन टिका हुआ है क्योंकि प्यार हो या परिवार हो या हो व्यापार, सब कुछ भरोसे पर ही निर्भर है। बिना भरोसे के जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती।

हमारे जीवन के सारे रिश्ते नाते इस भरोसे पर ही चलते हैं क्योंकि कहते हैं कि बिना प्यार के रिश्ते निभाया जा सकता है लेकिन बिना भरोसे  के कोई भी रिश्ता एक कदम भी नहीं चल सकता। इसीलिए रिश्तो में चाहे प्यार हो या ना हो लेकिन विश्वास का होना बहुत जरूरी है जिस रिश्ते में भरोसा होता है वहां प्यार अपने आप हो जाता है। इस पोस्ट में हम बहुत ही प्यार भरी Bharosa Shayari लाए हैं जिसे पढ़कर आप भी इसे अपने जीवन में उतारेंगे।

भरोसा एक ऐसी भावना है जो दिल से जुड़ी हुई है किसी पर भरोसा करना तो आसान है किंतु ताउम्र उस भरोसे को बनाए रखना बहुत ही मुश्किल काम होता है। इसीलिए अगर कोई आप पर आंख बंद करके भरोसा करे तो उसके इस विश्वास को कभी ना तोड़े क्योंकि जब भरोसा टूटता है तब आवाज नहीं आती लेकिन सब कुछ तबाह कर देता है।

Bharosa Shayari | Sad Bharosa Shayari | भरोसा शायरी

जब अपना दिल ख़ुद ले डूबे औरों पे सहारा कौन करे, कश्ती पे भरोसा जब न रहा तिनकों पे भरोसा कौन करे। — आनंद नारायण मुल्ला

Bharosa Shayari

कोई भरोसे के लिए रोता है, कोई भरोसा करके रोता है।

Bharosa Shayari

दिल को तेरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है, और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता। — अहमद फ़राज़

Bharosa Shayari

भरोसा खुद पर रखो तो, ताकत बन जाती है और दूसरों पर रखो तो, कमजोरी बन जाती है।

Bharosa Shayari

या तेरे अलावा भी किसी शय की तलब है या अपनी मोहब्बत पे भरोसा नहीं हम को। — शहरयार

Bharosa Shayari

रिश्ते दिल टूटने पर नहीं भारोसा टूटने पर बिखरते है।

Bharosa Shayari

आदतन तुम ने कर दिए वादे, आदतन हम ने ए’तिबार किया। गुलज़ार

Bharosa Shayari

मेरे दिल कि सरहद को पार न करना, नाजुक है दिल मेरा वार न करना, खुद से बढ़कर भरोसा है मुझे तुम पर, इस भरोसे को तुम बेकार न करना।

अक्सर बुरी सीरतों की सूरतें भी हसीन हुआ करती हैं, संभलना लोग भरोसे पर छुरी चलाते कतराते नहीं हैं।

वो एक तेरा वादा था की हम कभी जुदा ना होंगे, वो बात हम अपने दिल को सुनकर अक्सर मुस्कुराते है।

मैंने तुम पर भरोसा किया, पर तुमने मुझे धोखा दिया, अब किसी और पे ना भरोसा होगा, और ना किसी से दोबारा प्यार होगा।

निगाहों में अभी तक दूसरा कोई चेहरा ही नहीं आया, भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का।

Bharosa Shayari | Bharosa Todne Wali Shayari

कभी किसी ने ईश्वर को नहीं देखा लेकिन हम सब उस भगवान पर कितना भरोसा करते हैं क्यों, क्योंकि हमें यह भरोसा है की ईश्वर है और वह हमारे साथ कभी कुछ गलत नहीं होने देगा। उसी तरह जब कोई आप पर विश्वास करता है और आप उसका भरोसा तोड़ दो तो वह इंसान दिल से टूट जाता फिर वह व्यक्ति किसी पर भी भरोसा नहीं कर पाता। इसीलिए जो भी व्यक्ति चाहे वह आपके सगे संबंधी हो या प्यार हो, परिवार हो जो आप पर बहुत भरोसा करते हैं और आपसे बहुत प्यार करते हैं उसका भरोसा कभी ना तोड़ें क्योंकि उसके लिए आप ही सब कुछ हो।

भरोसा कर के तुमपे जो मैने तुम्हारा हाथ थाम लिया, भरोसा भी न रहा मेरे भरोसे पे के तुमने मेरा साथ छोड़ दिया।

जो लम्हा साथ है उसे जी भर के जी लो, कमबख्त ये ज़िन्दगी भरोसे के काबिल नही।

जब जब भरोसा किया है मेने, तब तब भरोसा टूटा है मेरा, अब तो किसी पर भरोसा करने का, मन ही नही करता है मेरा।

किसी पर इतना विश्वास रखो, कि कोई उसे तोड़ ना पाए, चाहे कोई कितनी भी कोशिश कर ले, रिश्तों का कुछ उखाड़ ना पाए।

भरोसा मत करना इस दुनिया के लोगो पर, मुझे तबाह करने वाले मेरे बहुत अजीज थे।

बहुत ख़ामोशी से टूट गया, वो एक भरोसा जो उस पे था।

Bharosa Shayari in Hindi

ऐ मुझ को फ़रेब देने वाले, मैं तुझ पे यक़ीन कर चुका हूँ — अतहर नफ़ीस

Bharosa Shayari in Hindi

भरोसा जितना कीमती होता है धोखा उतना ही महँगा हो जाता है।

Bharosa Shayari in Hindi

झूट पर उस के भरोसा कर लिया, धूप इतनी थी कि साया कर लिया। — शारिक़ कैफ़ी

Bharosa Shayari in Hindi

मंज़िलों से गुमराह भी कर देते है कुछ लोग, हर किसी से रास्ता पूछना अच्छा नहीं होता।

Bharosa Shayari in Hindi

तुम सितारों के भरोसे पे न बैठे रहना, अपनी तदबीर से तक़दीर बनाते जाओ। — सदा अम्बालवी

Bharosa Shayari in Hindi

उसकी हँसी पर क्या भरोसा करना, जो शख़्स खुलकर कभी रोया न हो।

Bharosa Shayari in Hindi

दिल का दर्द एक राज बनकर रह गया, मेरा भरोसा मजाक बनकर रह गया, दिल के सोदागरो से दिल्लगी कर बैठे शायद इसीलिए मेरा प्यार, इक अल्फाज बनकर रह गया।

जब सब तोल रहे थे मुझे ना उम्मीदी के तराज़ू में, एक वही तो था जिसने भरोसा जताया मुझ में।

खुद पर विश्वास हैं तो खुदा तेरे साथ हैं, अपनों पे विश्वास हैं तो दुआ तेरे साथ हैं, ज़िन्दगी से कभी मत हारना मेरे दोस्त, जब तक हम तेरे साथ हैं।

नसीब से ज्यादा भरोसा तुम पर किया, फिर भी नसीब इतना, नहीं बदला जितना तुम बदल गए।

सब पर भरोसा है, पर कुछ नहीं हासिल है, जिस तरफ पीठ करो, वहीं खड़ा कातिल है।

Dosti Bharosa Shayari | Bharosa Nahi Shayari

भरोसा जिंदगी का वह सबसे खूबसूरत रिश्ता है जिसे मिल जाए तो वह अकेला हो कर भी खुश है और जिसे ना मिले वह भीड़ में भी अकेला है। जो व्यक्ति आपके झूठ को भी सच मान ले उसका भरोसा कभी ना करें क्योंकि यह भरोसा ही है जो परस्पर रिश्तो की नींव को मजबूत बनाए रखता है और एक बार किसी के रिश्ते में शक आ गया तो वो रिश्ता खटकने लगता। इसीलिए इस Bharosa Shayari in Hindi के माध्यम से हम आपको यह बताना चाहते हैं कि झूठ बोलकर रिश्ता निभाने से अच्छा है कि सच बोल कर विश्वास बनाए रखना।

कीमत पानी की नही प्यास की होती है, कीमत मौत की नही साँस की होती है, प्यार तो बहुत करते है दुनिया मे, कीमत प्यार की नही विश्वास की होती है।

आप जिस पर आँख बंद करके भरोसा करते हैं, अक्सर वही आप की आँखें खोल जाते है।

आजकल न जाने कब बदल जाए इंसान भरोसा नहीं, कहते हैं जो भरोसा करो हम पर, अक्सर भरोसा तोड़ते हैं वहीं।

भोली बातों पे तेरी दिल को यक़ीं पहले आता था अब नहीं आता। — आरज़ू लखनवी

Bharosa Shayari Hindi

झड़ गए पत्ते उम्मीदों के सारे, मग़र जड़ भरोसे की मजबूत बहुत है।

Bharosa Shayari Hindi

ग़ज़ब किया तिरे वअ’दे पे ए’तिबार किया, तमाम रात क़यामत का इंतिज़ार किया। — दाग़ देहलवी

Bharosa Shayari Hindi

ना रुक ना झुक, रख भरोसा बस चलता जा, मंज़िल ना मिले तब तक बस बढ़ता जा।

Bharosa Shayari Hindi

मिरी ज़बान के मौसम बदलते रहते हैं, मैं आदमी हूँ मिरा ए’तिबार मत करना। — आसिम वास्ती

Bharosa Shayari Hindi

यह चमत्कार केवल विश्वास ही कर सकता हैं, जो पत्थर को भी भगवान कर सकता हैं।

Bharosa Shayari Hindi

सवाल ही नहीं दुनिया से मेरे जाने का मुझे यक़ीन है जब तक किसी के आने का। — अनवर शऊर

Bharosa Shayari Hindi

हर रिश्ते मे विश्वास रहने दो, जुबान पर हर वक्त मिठास रहने दो, यही तो अंदाज है जिन्दगी जीने का, न ख़ुद रहो उदास न दूसरों को रहने दो।

अब इन लहरो पर क्या भरोसा करूं, जब वो मेरे विपरीत ही चल रही है, मुझे तो इन हवाओं पर भरोसा है, जो मेरे पतवार को सहारा दे रही है।

समुंदर की लहरों पर भरोसा कर बैठे, कल वो डुबा कर हमें किनारा कर बैठे।

उनका भरोसा मत करो, जिनका ख्याल वक्त के साथ बदल जाऐ, भरोसा उनका करो जिनका ख्याल तब भी वैसा ही रहे जब आपका वक्त बदल जाऐ।

Bharosa Nahi Shayari | Bharosa Shayari Hindi

व्यक्ति को दूसरों पर भरोसा करने से पहले अपने आप पर भरोसा करना सीखना चाहिए। जो व्यक्ति स्वयं पर विश्वास नहीं कर सकता वह जीवन में किसी दूसरे पर भरोसा नहीं कर सकता। हां कभी कभी जीवन में निराशा आ जाती है, कभी ऐसी स्थिति आ जाती है जब खुद पर से भरोसा उठ जाता है और हमारे कदम डगमगाने लगते हैं किंतु उस स्थिति में हमें खुद को संभालना यही बात Bharosa Shayari द्वारा हम कहना चाहते हैं। आज शाम है तो कल सूरज निकलेगा भरोसा रख अपने आप पर तू हर पल निखरेगा क्योंकि विश्वास चीज ही ऐसी है जो पत्थर को भी भगवान बना देती है तो हम तो इंसान हैं अगर हमें खुद पर भरोसा है तो ऐसा कोई कार्य नहीं है जो हम अपने जीवन में कर नहीं सकते।

सब कुछ टूट जाये पर, वह भरोसा न टूटे, जो आप ने किसी पर, अपनी आप से भी ज़्यादा किया हो।

बात भरोसे की ना कर ऐ दिल तू किसी गैर से, मौसम से ज्यादा, इन्ही लोगों को बदलते देखा है मैंने।

बेशक किसी को माफ बार-बार करो, लेकिन भरोसा सिर्फ एक बार करो।

जिन्हें फ़िक्र थी कल की, वो रोयें रात भर, जिन्हें यकीन था रब पर वो सोयें रात भर।

Shayari on Bharosa

यक़ीन उसी के वादे पे लाना पड़ेगा, ये धोखा तो दानिस्ता खाना पड़ेगा। — मुनीर भोपाली

Bharosa Shayari Hindi

खुद में काबिलियत हो तो भरोसा कीजिये साहिब, सहारे कितने भी अच्छे हो साथ छोड जाते है।

Bharosa Nahi Shayari

आदमी बुलबुला है पानी का क्या भरोसा है ज़िंदगानी का। — रज़ा

Dosti Bharosa Shayari

भरोसा कर लिया है मैंने तेरे झूठ पर भी, तुझे खुदा जो माना है।

Bharosa Todne Wali Shayari

उम्र जितनी भी कटी उस के भरोसे पे कटी, और अब सोचता हूँ उस का भरोसा क्या था। — शहज़ाद अहमद

Bharosa Shayari in Hindi

बड़ी खामोशी से टूट गया वो एक भरोसा जो सिर्फ तुम पर था।

Sad Bharosa Shayari

उम्मीदें तैरती रहती हैं कश्तीयां डूब जाती है, कुछ घर सलामत रहते हैं आँधियाँ जब भी आती है, बचा ले जो हर तूफां से उसे आस कहते हैं बड़ा मज़बूत है ये धागा जिसे विश्वास कहते है।

रखा करो नजदीकियां, ज़िन्दगी का कुछ भरोसा नहीं, फिर मत कहना चले भी गए, और बताया भी नहीं।

प्यार और भरोसा दो ऐसे पंछी हैं, अगर इनमें से एक उड़ जाए तो, दूसरा अपने आप उड़ जाता है।

भरोसे के बाज़ार में जिंदगी बेची थी मैंने, तब जा के कहीं पाया हैं ये लेहजा मैंने।

Shayari on Bharosa | Bharosa Shayari | Vishwas Shayari

भरोसा करना भी सीखना चाहिए क्योंकि यह सबसे कठिन कार्यों में से एक है। हर किसी पर भरोसा नहीं करना चाहिए क्योंकि कभी-कभी हमारी खुद की दांत हमारी खुद की जीभ को काट देती है इसीलिए जब तक आप अपने सामने वाले व्यक्ति को अच्छे से जान समझ ना ले तब तक भरोसा ना करें। अपनी कोई भी ऐसी बात उसको ना बताएं जिसका वह फायदा उठा सकें क्योंकि भरोसा बनाने में उम्र बीत जाती है और तोड़ने में 1 सेकंड नहीं लगता तो क्यों किसी को अपना भरोसा तोड़ने का मौका दें। इसीलिए जब तक आप अच्छे से उस व्यक्ति को परख ना ले तब तक उस पर आंख बंद करके विश्वास ना करें और यदि आपको ऐसा लगे कि वह विश्वास पात्र हैं तभी आप अपने राज उनके समक्ष खोलें। यह बेहतरीन Bharosa Shayari Hindi द्वारा आपको अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में मदद देगी।

वहम था मेरा जो तुम पर भरोसा किया, लोगों ने तो सिर्फ दिल तोड़ा था, तुमने तो मेरा रूह निचोड़ दिया।

जिंदगी का भरोसा नहीं कब तक साथ निभाएगी, पर मौत पर ऐतबार है एक दिन ज़रूर आएगी।

भरोसा तब नहीं टूटता जब कोई रूठ जाता है, भरोसा तब टूटता है जब कोई दिल तोड़ जाता है।

कुछ ठोकरो के बाद नजाकत आ गयी मुझमे, अब दिल के मशवरो पे मै भरोसा नही करती।

क्यूँ इतना हमें अपनी मोहब्बत पे यक़ीं है, दुनिया तो मोहब्बत की परस्तार नहीं है। — आलम ख़ुर्शीद

Bharosa Shayari

भरोसा क्या करना गैरों पर जब गिरना और चलना है अपने ही पैरों पर।

Bharosa Shayari

उठा कर रोज़ ले जाता है मेरे ख़्वाब का मंज़र, वो मुझ से रोज़ कहता है भरोसा क्यूँ नहीं करते। — ख़ालिद महमूद

Bharosa Shayari

गलत इसान पे भरोसा करने के बाद ही, सही इंसान को पहचानने की समझ आती है।

Bharosa Shayari

नक़ाब कहती है मैं पर्दा-ए-क़यामत हूँ, अगर यक़ीन न हो देख लो उठा के मुझे। — जलील मानिकपुरी

Bharosa Shayari

मेरा भरोसा ऐसे ही नहीं टूटा, मैंने देखा है तुझे गैरो की बाहों में, दिल लगाते हुए।

Bharosa Shayari

जिस से हर उम्मीद हो और वो ही दिल दुखा दे, तो पूरी दुनिया से ही भरोसा उठ जाता है।

Bharosa Shayari

किसी पर खुद से भी, ज्यादा भरोसा करना, और उस भरोसे का टूटना तो, जैसे दस्तूर हो जिंदगी का।

पल पल से बनता है एहसास, एहसास से बनता है विश्वास, विश्वास से बनते हैं कुछ रिश्ते, और उन रिश्तों से बनता है कोई खास।

आज शाम हुई कल फिर सूरज निकलेगा, भरोसा रख अपने आप पर हर पल तू निखरेगा।

एक बार फ़िर शक भरोसे से सबूत मांग रहा है, हँस रही है क़िस्मत फ़िर एक रिश्ता दफ़न हो रहा है।

Final Thought About Bharosa Shayari

जिस तरह मनुष्य का शरीर बिना भोजन के रह सकता है किंतु बिना पानी के नहीं रह सकता उसी तरह हमारे रिश्ते बिना प्यार मोहब्बत के तो टिक सकते हैं लेकिन बिना भरोसे और विश्वास के नहीं टिक सकते। यह Bharosa Shayari Hindi पढ़कर आपको यह एहसास होगा कि जीवन और आपके रिश्तो में भरोसा कितना महत्व रखता है।

रिश्तो में हमेशा सम्मान की भावना है को रहने दीजिए और दिलों में हमेशा प्यार की मिठास बनने दीजिए। अपने दिलो दिमाग से गलतफहमी और नादानी को दूर करके रिश्तो में भरोसा, विश्वास और समझदारी रहने दीजिए अर्थात हम आपको यह बताना चाहते हैं कि जिंदगी का सबसे खूबसूरत पौधा विश्वास का होता है जो जमीन से नहीं दिल में उगता है। इसीलिए हमेशा यह कोशिश करें कि यह पौधा मुरझाये ना, अपनी नेक और निस्वार्थ भाव से इस पौधे को सिजते रहे क्योंकि भरोसे की असली कीमत केवल सम्मान और इमानदारी की होती है जो हम सबको अपने रिश्तो में बना कर रखना चाहिए।

दोस्तो, आशा करते है कि हमारे द्वारा दिये गए Bharosa Shayari आप सभी को खूब पसंद आये होंगे। यहाँ पर दिए गए सभी Vishwas Shayari हम ख़ासतौर पर आपके लिए चुन कर लाये है।

आपलोगों को हमारा ये Bharosa Shayari in Hindi कैसा लगा जरुर Comment कर के हमें बताइयेगा और कृपया आप अपने FacebookWhatsApp और Other Social Media Platforms पर शेयर करना ना भूले।

इन्हे भी पढ़ें:-

Previous article[110+ NEW] Intezaar Shayari – इंतज़ार शायरी
Next article[101+ Latest] Matlabi Shayari – मतलबी शायरी | Matlabi Log Shayari

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here